Saturday, February 15, 2014

अधूरा सफर

इस शहर में आये हुए दिन चार भी न हुए थे 'आपको',
                                          बदनाम थे जिन्होंने बदनाम कर दिया है 'आपको '।
खुद की काली परछाइयों से दाग दार कर दिया है 'आपको',
                                         सादगी से आपकी डर गए वो , जिन्होंने बदनाम किया 'आपको' ।
गर 'हाथ' से मिला कर हाथ चलते तन्हा न करते 'आपको',
                                         सिक्कों की खनखनाहट से हाथ मिलाते चलते ही रहते सफर में ।
भ्रष्ट दामनों को बचाते-बचाते दाग लग गए हैं 'आपको',
                                         अपने ही शब्दो के भंवर में उलझा दिया है 'आपको'।
बन जाते कठपुतली और चलते  इशारों पर,
                                        कीचड़ में खिला ही रहने देते कमल की तरह 'आपको'। 

अधूरे सफर को कोई  मिला न किनारा 'आपको', 

                                         अब वक्त ही समझेगा कोई समझे या न समझे 'आपको'। 

चक्रव्यूह में फंसा कर ख़त्म ही कर दिया है 'आपको',
                                        दिख रहा है अब, क़दमों को कोई सहारा न देगा  'आपको'॥ 


No comments:

Post a Comment